Thursday , February 27 2020
Breaking News
Home / Uncategorized / गच्छाधिपति श्री ने दिया प्रतिष्ठा का मुहर्त

गच्छाधिपति श्री ने दिया प्रतिष्ठा का मुहर्त

अमर शहीद चंद्रशेखर आजाद नगर से पहुँचा जैन श्री संघ

पिपलौदा / (प्रफुल जैन) – पावनिय चातुर्मास महोत्सव में अमर शहीद चंद्रशेखर आजाद की जन्म व पूण्य सम्राट द्वारा उपकारी भूमि आजाद नगर (भाभरा) से आये श्री संघ ने प्रतिष्ठा के मुहर्त व गच्छाधिपति नित्यसेन सूरीश्वर जी म.सा.की निश्रा हेतु विनती की जिस पर चिंतन कर गच्छाधिपति श्री ने श्री संघ को 28 नवंबर 2019 का मुहर्त प्रदान किया मुहर्त लेने हेतु श्री संघ के साथ ही विशेष लाभार्थी नरेंद्र कुमार श्रीश्रीमाल चेन्नई से पिपलोदा पहुचे।
मुहर्त प्राप्त करते ही उपस्थित श्री संघ व जनसमुदाय में हर्ष व्याप्त हो गया साथ ही लाबरिया श्री संघ ने भी गच्छाधिपति श्री का आशीर्वाद लिया।


मुनिराज श्री सिद्धरत्न विजय जी म.सा.ने कहा की संसार मे प्रतिफल अतिक्रमण हो रहा है उसे दूर करने हेतू श्रावक श्राविकाओं को प्रायश्चित के साथ प्रतिक्रमण कर क्षमायाचना करना चाहिए श्रद्धा से किये गए धार्मिक अनुष्ठान का फल तुरंत ही मिल जाता है अई मुत्ता मुनि ने इरियावहियम सूत्र का भाव से क्षमायाचना की जिससे उन्हें कुछ ही समय मे केवल ज्ञान प्राप्त हो गया।
मुनिराज श्री विद्वदरत्न विजय जी म.सा.ने कहा कि आत्मा, परमात्मा, बहीर आत्मा और अंतर आत्मा में से प्रथम दो आत्माओ को सभी जानते है किंतु बहिर आत्मा जो बाहर भटकती है वह स्वस्थान पर आने पर अंतर आत्मा में परिवर्तित हो जाती है देव गुरु से छोटे छोटे व्रत पचखाण लेकर मानव को सदमार्ग की ओर प्रशस्त होना चाहिए साथ ही बताया कि दोस्त तीन प्रकार के होते है तन मन और धन जो स्वार्थ सिद्ध होने तक साथ रहते है सच्चा दोस्त वही होता है जो दुख और संकट के समय साथ रहता है जिस प्रकार कृष्ण और सुदामा सांधि पानि आश्रम में साथ पढ़े एवं एक दूसरे के दुख में साथ रहे जो आज अमर हो गए साथ ही वर्तमान में समाज मे आई कुरुतियो को दूर करने हेतु अपने सुझाव जनमानस को बताए।
मुनिराज तारकरत्न विजय जी म.सा.की आत्म भावना प्राथर्ना करवाई।
मुनिराज प्रशमसेन विजय जी म.सा.,मुनिराज श्री निर्भयरत्न विजय जी म.सा.साध्वी श्री भाग्यकला श्री जी म.सा. आदि ठाणा उपस्थित थे।

ये रहे लाभार्थी – श्री शंखेश्वर पार्श्वनाथ धाम प्रचार सचिव प्रफुल जैन ने बताया कि दादा गुरुदेव व पूण्य सम्राट की आरती व प्रभावना का लाभ जैन श्री संघ लाबरिया,गवली का लाभ दिवानमल बाबेल परिवार द्वारा लिया गया। सभी लाभार्थियों का विजय चन्द्रगोता परिवार के साथ ही श्री संघ अध्यक्ष बाबुलाल धींग व चातुर्मास समिति अध्यक्ष राकेश जैन इंदौर ने बहुमान किया।
पावनिय चातुर्मास में सांखली अठ्ठम व आयम्बिल के साथ ही नटवर सिंह राठौर के 24 उपवास की तपस्या चल रही है
संचालन – चातुर्मास प्रभारी राकेश जैन ने किया।

About Swastik Jain

Check Also

बीते जीवन के सदुपयोग का आंकलन करने वाला जीव मोक्षगामी होता है – मुनिराज डॉ सिद्धरत्न विजय

पिपलौदा / (प्रफुल जैन) – गच्छाधिपति नित्यसेन सूरीश्वर जी म.सा.की पावन निश्रा में श्री शंखेश्वर पार्श्वनाथ …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *