Sunday , September 22 2019
Breaking News
Home / चातुर्मास / सज्जन का संग मानव व दुर्जन का संग बनाता है दानव – गच्छाधिपति श्री

सज्जन का संग मानव व दुर्जन का संग बनाता है दानव – गच्छाधिपति श्री

 

पिपलौदा / (प्रफुल्ल जैन) – पावनिय चातुर्मास महोत्सव के दौरान श्री शंखेश्वर पार्श्वनाथ धाम पर गच्छाधिपति नित्यसेन सूरीश्वर जी म.सा.ने कहा कि सज्जन का संग मानव व दुर्जन का संग दानव बनाता है सज्जन पारसमणि जी तरह व दुर्जन लोहे के समान होते हैं सज्जन ज्ञानी व सरल व्यक्तित्व के साथ ही उनका ह्रदय आद्र और स्निग्ध रहता है उनकी वाणी में हमेशा सत्यता रहती है जैसे श्रीफल ऊपर से कठोर व अंदर से मुलायम होता है उसी प्रकार दुर्जन का हृदय पत्थर जैसा रहता है जो ऊपर से मुलायम और अंदर से क्लिस्ट बेर की भांति होता है अतः मानव को सहज व सरल रहना चाहिए ।

मुनिराज श्री सिद्धरत्न विजय जी म.सा.ने कहा प्रभु वीर का शासन अविरत रूप से चला आ रहा है और चलेगा आत्मा अमर है सुकृत करने से विभिन्न गतियों में भ्रमण कर मानव भव में आये है यह जंगशन जैसा है जो अपने कर्म के अनुसार नर्क तिर्यंच देवता और मानव के भव में शुभ कार्य करने से उच्चगति में जाने का मार्ग प्रशस्त होता है ।

मुनिराज श्री विद्वदरत्न विजय जी म.सा.ने कहा कि प्रभु समवशरण में बिराज कर उपस्थित जीवो को देवानुप्रिय से संबोधित कर देशना प्रारम्भ करते है वैसे ही आत्मा का स्वभाव धूप की भांति ऊपर जाने का होता है साथ ही भवि ओर अभवि का अंतर बताते हुए बताया कि भवि जीव शुभ कार्य मे प्रवर्त रहता है जबकि अभवि जीव उस ओर जाने का मार्ग नही चुनता है वह भौतिक सुख सुविधा में उलझकर अपना जीवन समाप्त कर देता है राजा दशांणभद्र व देवता का उदाहरण देते हुवे बताया कि मानव त्याग कर सकते है लेकिन देवता नही ।

मुनिराज तारकरत्न विजय जी म.सा.द्वारा आत्म भावना प्राथर्ना करवाई गई ।
मुनिराज प्रशमसेन विजय जी म.सा.,मुनिराज श्री निर्भयरत्न विजय जी म.सा.उपस्थित थे।

ये रहे लाभार्थी – श्री शंखेश्वर पार्श्वनाथ धाम प्रचार सचिव प्रफुल जैन ने बताया कि दादा गुरुदेव व पूण्य सम्राट की आरती का लाभ सूरजमल कर्नावट परिवार मंदसौर,प्रभावना का लाभ फतेलाल नांदेचा खाचरोद,श्री संघ मन्दसौर, कुशलगढ़,दसई,वाई महाराष्ट्र व गवली का लाभ केशरीमल धीरज रुनवाल परिवार ने लिया सभी लाभार्थीयो का विजय कुमार चन्द्रगोता परिवार द्वारा बहुमान किया गया।

श्री संघो ने लिया आशीर्वाद – श्री संघ के महामंत्री व शाश्वत धर्म संपादक सुरेंद्र लोढ़ा मंदसौर,श्री संघ अध्यक्ष मन्दसौर गजेंद्र हिंगड़,कमलेश कावड़िया कुशलगढ़ श्रीसंघ,संजय पीपाड़ा दसई श्री संघ, पोपटलाल जैन वाई महाराष्ट्र श्री संघ, संदीप व मयूर तलेसरा सारंगी श्री संघ, यशवंत बोड़ाना इंदौर श्री संघ,श्री खाबिया जी मनासा श्री संघ के साथ ही कुक्षी, अलीराजपुर, दलौदा,जावरा,रतलाम,सैलाना आदि श्री संघो ने पूज्य गच्छाधिपति श्री व मुनिमण्डल का आशीर्वाद लेकर सभी से क्षमा याचना कर अपने विचार रखते हुए पिपलोदा श्री संघ द्वारा की गई व्यवस्थाओ प्रशंसा की ।
संचालन – चातुर्मास प्रभारी राकेश जैन व तरुण अध्यक्ष हर्ष कटारिया ने किया।

About Swastik Jain

Check Also

प्रमाद से कंकर व प्रयत्न से मिलता है रत्न – गच्छाधिपति श्री

पिपलौदा / (प्रफुल जैन) – पावनिय चातुर्मास महोत्सव के दौरान श्री शंखेश्वर पार्श्वनाथ धाम पर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *