Sunday , January 26 2020
Breaking News

नवकार मंत्र तंत्र व यंत्र शक्ति का पुंज है – गच्छाधिपति श्री

प्रथम दिवस सात तीर्थो की भाव यात्रा करवाई

पिपलौदा / (प्रफुल जैन) – पावनिय चातुर्मास महोत्सव के दौरान श्री शंखेश्वर पार्श्वनाथ धाम पर गच्छाधिपति नित्यसेन सूरीश्वर जी म.सा.ने कहा कि नवकार अपने आप मे मंत्र,तंत्र एवं यंत्र विशिष्ठ शक्ति का पुंज है श्रद्धावान पुन्यवानके सतत साथ रहने से प्रभाव की प्रतीति होती है और साधना रत साधक को इसके प्रत्येक पद का उत्कृष्ट चिंतन करते करते स्वभाव के दर्शन होते है।
साथ ही मुनिराज श्री सिद्धरत्न विजय जी म.सा.व मुनिराज विद्वदरत्न विजय जी म.सा. ने सभी सात तीर्थो के बारे में विस्तृत जानकारी दी।
सर्वप्रथम प्रातः सूर्योदय के साथ नवकार मंडप में प्रभु प्रतिमा नवकार पट राजेन्द्र सुरी गुरु देव का चित्र व पूण्य सम्राट की प्रतिमा को लाभार्थियों द्वारा विराजमान कर आराधना आरम्भ हुई जिसमे गच्छाधिपति श्री द्वारा विभिन्न धार्मिक क्रियाए सम्पन्न करवाई गई ।
मुनिराज तारकरत्न विजय जी म.सा.,मुनिराज प्रशमसेन विजय जी म.सा.व निर्भयरत्न विजय जी म.सा. व साध्वी भगवंत उपस्थित थे ।
ये रहे लाभार्थी- श्री शंखेश्वर पार्श्वनाथ धाम प्रचार सचिव प्रफुल जैन ने बताया कि दादा गुरुदेव व पूण्य सम्राट की आरती का लाभ पूर्व ऊर्जा मंत्री पारस जैन उज्जैन, प्रभावना का लाभ कांतिलाल,वीरेंद्र कुमार,विनय जी जावरा,प्रकाशचंद्र जैन साँवेर, राजमल पोरवाल मन्दसौर, गवली का लाभ राजेश भंडारी परिवार द्वारा लिया गया सभी लाभार्थियों का श्री संघ अध्यक्ष बाबुलाल धींग द्वारा बहुमान किया गया। आयोजन में पूर्व ऊर्जा मंत्री पारस जैन, थाना प्रभारी प्रताप सिंह भदौरिया, पूर्व जिलाध्यक्ष किसान मोर्चा हरिराम शाह, पूर्व नप अध्यक्ष अतुल गौड़, पूर्व भाजयुमो मण्डल अध्यक्ष नानालाल शाह, सांसद प्रतिनिधि संजय पूरी गोश्वामी उपस्थित थे ।
संचालन चातुर्मास प्रभारी राकेश जैन व वाटिका उपाध्यक्ष शिखर बोहरा ने किया।

नमो अरिहंताणं पद की भव यात्रा हुई – प्रथम दिवस नमो अरिहंताणं पद के सात तीर्थ श्री नवकार तीर्थ,श्री मोहनखेड़ा तीर्थ,श्री अष्टापद तीर्थ,श्री रिंगणोंद तीर्थ,श्री हत्थुडी तीर्थ,श्री तालनपुर तीर्थ,श्री नंदीवर्द्धनपुर तीर्थ की गच्छाधिपति श्री द्वारा महाराजा भरत चक्रवती की स्थापना कर संगीतमय नवकार भाव यात्रा प्रारंभ करवाई साथ ही लाभार्थी बाबुलाल ऋषभ कुमार धींग परिवार द्वारा अष्टप्रकारी पूजा भी की गई।

दिनांक 08 अगस्त को नमो सिद्धाणं व नमो आयरियाणं की भाव यात्रा होगी जो महाराजा श्री संप्रति द्वारा करवाई जावेगी जिसका लाभ संदेश कुमार पारसमल तलेरा उज्जैन द्वारा लिया गया ।

About Swastik Jain

Check Also

बीते जीवन के सदुपयोग का आंकलन करने वाला जीव मोक्षगामी होता है – मुनिराज डॉ सिद्धरत्न विजय

पिपलौदा / (प्रफुल जैन) – गच्छाधिपति नित्यसेन सूरीश्वर जी म.सा.की पावन निश्रा में श्री शंखेश्वर पार्श्वनाथ …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *