Sunday , August 25 2019
Breaking News
Home / Uncategorized / नगर में शांतिनाथ मंदिर में सम्पन्न हुआ शिलान्यास का कार्यक्रम

नगर में शांतिनाथ मंदिर में सम्पन्न हुआ शिलान्यास का कार्यक्रम

 

कुक्षी / (स्वस्तिक जैन) – नगर में महात्मा गाँधी मार्ग पर स्तिथ 525 वर्ष पुराना मंदिर श्री शांतिनाथ मंदिर जी मे शिलान्यास का आयोजन सम्पन्न हुआ । प पु आचार्य श्री नित्यसेन सूरीश्वर जी म सा आदि ठाणा की शुभ निश्रा में प्रातः सीमंधर स्वामी मंदिर जी से गाजे बाजे के साथ प्रभुजी की प्रतिमा को बड़े मंदिर लाया गया पश्चात स्नात्र पूजन व पाटला पूजन सम्पन हुआ लाभार्थियो द्वारा शिलान्यास का लाभ लिया गया शिलान्यास की सम्पूर्ण विधि चेन्नई से श्री सत्य विजय जी हरण ने करवाई । आचार्य श्री शिलान्यास पर होने वाली मुद्राये की शिलान्यास का पत्थर मन्दिर की भूमि पर रखा नगर जानो में बड़े उसाह का माहौल बन गया और पूरा नगर जानो ने नाच कर उत्साह झहिर किया । सभी विधि सम्पन करवा कर बड़े उपाश्रय में आचार्य श्री ने आपने मुखारविंद से मंगला चरण सुनाये पश्चात आचार्य श्री व मुनिराज श्री के प्रवचन हुवे । आचार्य श्री अपने प्रवचन में बताया कि पूण्य सम्राट को याद कर उनकी स्मरण अनुसार ये मेरा पिहर का गांव है जहाँ आत्मिक शांति मिलती है ओर यहां बार बार आने का भाव होता है । कुक्षी जैन श्रीसंघ की ओर से आचार्य श्री को कमली ओढा कर कृतज्ञता प्रकट की । आचार्य श्री व श्री संघ नगर में स्तिथ श्री आदिनाथ मंन्दिर में पुंडरीक स्वामी भगवान की प्रतिमा लाभर्तियो द्वारा बिराजमान की गई। महात्मा गांधी मार्ग स्थित सीमंधर स्वामी मंदिर में दादा गुरुदेव श्री राजेन्द्र सूरीश्वर जी म सा की प्रतिमा लाभर्तियो द्वारा बिराजमान की गई । पुनः बडे उपाश्रय में प्रवेश कर सर्व मंगल किया । श्री संघ व बाहर से पधारे यात्रियों का नवकारसी व स्वामीवत्सल्य का आयोजन किए गए । इस अवसर पर कुक्षी के प्रतिष्ठित परिवार के श्री सुरेंद्र जी पोरवाल (धनराज जी चम्पालाल जी) इंदौर श्रीसंघ अध्यक्ष एवं विनोद जी जैन व मुकेश जी जैन इंदौर में होने वाली मंदिर की प्रतिष्ठा की पत्रिका आज आचार्य श्री को अर्पण कर प्रतिष्ठा में आचार्य श्री व कुक्षी श्रीसंघ को पधारने की विनती की ।

About Swastik Jain

Check Also

सम्पूर्ण विश्व मे प्रभावशाली है भावना – गच्छाधिपति श्री

पिपलौदा / (प्रफुल जैन) – पावनिय चातुर्मास महोत्सव के दौरान श्री शंखेश्वर पार्श्वनाथ धाम पर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *