Sunday , August 25 2019
Breaking News
Home / चातुर्मास / साध्वीजी म सा ने आज नमस्कार महामंत्र के पांचवें पद नमो लोएसव्वसाहूणं पर प्रवचन दिए

साध्वीजी म सा ने आज नमस्कार महामंत्र के पांचवें पद नमो लोएसव्वसाहूणं पर प्रवचन दिए

रिंगनोद / (सारस जैन) – पुण्य सम्राट आचार्य श्रीमद विजय जयंतसेन सूरीजी महाराज के पट्टधर गच्छाधिपति नित्यसेन सूरीजी म सा व आचार्य देवेश जयरत्न सूरीजी आज्ञानुवर्ती साध्वी श्री दर्शित कलाश्री जी महाराज साहब चिंतन कलाश्री जी महाराज साहब ने आज नमस्कार महामंत्र के पांचवें पद नमो लोएसव्वसाहूणं के 9अक्षरों पर 9 तीर्थों की भाव पूजा करवाई !नवसारीतीर्थ चिंतामणि पारसनाथ प्रभु ,मोदरा तीर्थ समितिनाथ प्रभु ,वर्तमान मंदिर की प्रतिष्ठा पूज्य आचार्य विद्याचन्द्र सूरीजी महाराज साहब ने करवाई थी, यहां पर चामुंडा माता का वन है जहां बलि प्रथा थी ,जिसको तीर्थविजयजी महाराज साहब ने बंद करवाया !लोद्रवा तीर्थ पारसनाथ प्रभु ,यहां से पाकिस्तान की सीमा 12 किलोमीटर की दूरी पर है! जैसलमेर के पास है, जहां पर दादा गुरु राजेंद्र सूरी जी महाराज साहब के पुरखों की हवेलिया है! एकलिंगजी तीर्थ शांतिनाथ प्रभु ,यहां पर पहले 300 दिन मंदिर थे ,वर्तमान में जैन गुरुकुल भी है !सम्मेद शिखरजी तीर्थ पारसनाथ प्रभु ,20 तीर्थंकरों की निर्माण भूमी, करोड़ों मुनि भगवंतों की सिद्ध भूमी, यहां के अधिष्टायकदेव भोमिया जी यात्रियों की हर संभव सहायता करते हैं! वरकाणा तीर्थ पारसनाथ प्रभु ,प्रतिदिन सोने के अर्क से अंग रचना होती है । राजेंद्र सूरी जी महाराज साहब ने यहां पर तीन दीक्षाएं दी थी !सागोदिया तीर्थ आदिनाथ प्रभु ,हुबलीतीर्थ शांतिनाथ प्रभु, यह धनचंद्रसूरीजी महाराज साहब ने अंजनशलाका कराई थी, आपने पाकिस्तान के कराची में चातुर्मास किया था !नंदीग्राम तीर्थ सीमंधर स्वामी जी की भाव पूजा करी !भक्तांबर प्रभावना महिला परिषद् रिंगनोद, प्रवचन प्रभावना शांतिलालजी उमेश कुमारजी मांडोत परिवार जावरा एवं नीरज कुमारजी हेमंत कुमारजी( आरती बाढीयां) बोथरा परिवार रतलाम, आयंम्बिल लडी में श्रीमती रश्मि सुनीलजी मेहता अतिथि स्वामीभक्ति श्रीसंघ ने लाभ लिया! आज की चौबीसी अखिलेश कुमारजी धन्ना लालजी डूंगरवाल परिवार द्वारा दोपहर 2:00 बजे रखी है! मासखमण, सिद्धि तप, नवकार आराधना आयंम्बिल की तपस्या चालू है ।

About Swastik Jain

Check Also

सम्पूर्ण विश्व मे प्रभावशाली है भावना – गच्छाधिपति श्री

पिपलौदा / (प्रफुल जैन) – पावनिय चातुर्मास महोत्सव के दौरान श्री शंखेश्वर पार्श्वनाथ धाम पर …

One comment

  1. Jai Jinendra

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *