Sunday , January 26 2020
Breaking News
Home / चातुर्मास / निम्बाहेड़ा में नवकार महामंत्र के जाप में 120 आराधक साध्वीजी म सा की निश्रा में आराधना कर रहे है

निम्बाहेड़ा में नवकार महामंत्र के जाप में 120 आराधक साध्वीजी म सा की निश्रा में आराधना कर रहे है

निम्बाहेड़ा / (दीपक सेठिया) – पुण्य सम्राट आचार्य देवेश श्रीमद् विजय जयंतसेन सुरिश्वर जी महाराज साहब के अंतिम मुखारविंद से मिला यह निंबाहेड़ा चातुर्मास इतिहास के एक स्वर्णिम अध्याय बनने जा रहा है इस चातुर्मास में सर्वाधिक 120 आराधक नवकार की आराधना कर रहे हैं जो किसी भी चातुर्मास से सर्वाधिक है इसके साथ ही सकल जैन समाज में यह पहला अवसर है जिसमें दिलीप जी मोदी के 33 एवं पुलकित जी मोदी ने 30 उपवास है अभी तक पूरे जैन समाज में किसी के भी इतनी बड़ी तपस्या (पुरुष वर्ग) में नहीं हुई और भी कई प्रकार की धर्म आराधना एवं तपस्याएं पूज्या साध्वी जी डॉ. प्रीति दर्शना श्रीजी म.सा. की प्रेरणा से चल रही है सभी तपस्वी महानुभावों की खूब-खूब अनुमोदना एवं सुख साता पूछते हैं और नवकार मंत्र की आराधक के एकासने की भव्य व्यवस्था करने पर श्री संघ एवं चातुर्मास आयोजन समिति के सभी महानुभावों की समाजजन ने खूब-खूब अनुमोदना ।

About Swastik Jain

Check Also

बीते जीवन के सदुपयोग का आंकलन करने वाला जीव मोक्षगामी होता है – मुनिराज डॉ सिद्धरत्न विजय

पिपलौदा / (प्रफुल जैन) – गच्छाधिपति नित्यसेन सूरीश्वर जी म.सा.की पावन निश्रा में श्री शंखेश्वर पार्श्वनाथ …

One comment

  1. बहुत बहुत अनुमोदना

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *