Monday , June 17 2019
Breaking News
Home / पाठशाला / सूत्र और रचियता

सूत्र और रचियता

सूत्र और रचियता

जगचिंतामणी……. गौतम स्वामी
ऊवसग्ग…………..भद्रबाहु स्वामी
संसारदावा……….. हरिभद्र सूरी
लधु शांति………… मानदेव सूरी
सकल तीर्थ………. जीव वीजय
स्नातस्या…………. बालचंद मुनी
सकलार्हत………… हेमचंद्र सूरी
संतिकर…………… मुनिसुंदर सूरी
अजित शान्ति…….. नंदीषेण सूरी
तिजय पहुत………. मानदेव सूरी
नमिऊण…………… मानतुंग सूरी
भक्तामर…………… मानतुंग सूरी
कल्याण मंदिर……. सिध्द सेन दिवाकर सूरी
बृहत शांति………… शिवादेवी माता
नवकार……………. शश्वत नवकार मंत्र गिनने के लाभ
=================
नवकार मंत्र का भावपूर्वक एक
अक्षर बोलने पर :- सात सागरोपम
जितने पापो का नाश होता है ।

नमो अरिहंताणं

इतना एक पद बोलने पर  50
सागरोपम जितने पाप नष्ट होते है ।.

संपूर्ण नवकार मंत्र गिनने से 500
सागरोपम जितने पाप
नष्ट होते हैं .

एवं सुबह उठकर आठ
नवकाR र्गिनने से 4000 सागरोपम
जितने पाप नष्ट होते हैं।

संपूर्ण नवकार वाली गिननेसे
54000
सागरोपम जितने पाप नष्ट होते है।

सागरोपम अर्थात् गिनने में कठिनाई हो
इतने अरबों वर्ष। यह नवकार
महामंत्र शक्तिदायक, विध्नविनाशक,
प्रभावशाली, चमत्कारी है।

गर्भवती स्त्रियों के लिए इस मंत्र
का जाप करना अति उत्तम है।

जन्म के समय बालक के कान
में यह मंत्र सुनाने से उसके जीवन
में समृद्धि प्राप्त होती है

एवं मृत्यु के समय सुनाने पर सदगति
प्राप्त होती है।

दॄढ विश्वास तथा शुद्ध मन से इस
मंत्र का जाप नित्य करने से विश्व में ,
परिवार में तथा मन में शांति रहती है ,

मन स्वच्छ और निर्मल बनता है ।

नमो अरिहँताणँ
नमो सिध्णामँ
नमो आयरियाणँ
नमो उवझायाणँ
नमो लोए सव साहुणँ,
ऐसो पँच नमोकारो,
सव पावपँणासनो,
मँगलाणँच सवेसिँह,
पढमँम होइ मँगलम.

About Swastik Jain

Check Also

संयम की स्वप्न यात्रा (आत्मोद्धार 2)

Dream Your AATMODDHAR संयम की स्वप्न यात्रा रचनाकार: युगप्रभावक पुण्यसम्राट गुरुदेव श्री जयन्तसेनसूरीश्वरजी महाराजा Singers: …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *